18वीं सदी में महिलाओं की स्थिति कैसी थी?

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

देखा जाए तो 18वीं शताब्दी में महिला की स्थिति अत्यंत दयनीय थी। अब सोच कर भी डर लगता है कि स्त्रियों को क्या-क्या सहना पड़ता था उस वक्त स्त्री होना एक पाप जैसा लगता रहा होगा।

(1). महिलाओं को किसी भी प्रकार का कोई भी अधिकार प्राप्त नहीं था परिवार पितृसत्तात्मक होते थे संपत्ति पर अधिकार केवल पुरुषों का होता था महिलाओं को किसी भी प्रकार की संपत्ति से वंचित रखा जाता था।

(2). बाल विवाह का प्रचलन पूरे देश में बहुत जोरों से था, छोटी-छोटी बच्चियों की शादी तब कर दी जाती थी, जब उन्हें पता भी नहीं होता था कि शादी आखिर है क्या?



(3). महिलाएं शिक्षा के अधिकार से पूर्णतया वंचित थी लोगों में यह मान्यता थी अगर महिलाएं पढ़ लिख लेंगी तो वह बहुत जल्दी विधवा हो जाएंगी, इस वजह से उन्हें शिक्षा से वंचित रखा जाता था, वो केवल घर के काम करती थी।

(4). पुरुषों को तो एक से अधिक विवाह का हक था परंतु स्त्रियों से अपेक्षा की जाती थी कि वह केवल पत्नी और माता की ही भूमिका निभाए। और निस्वार्थ भाव से सब की सेवा करें।

(5). सती प्रथा का प्रचलन उस वक्त पूर्वी समाज में जोरों से था इस प्रथा में स्त्रियों से उम्मीद की जाती थी कि वह अपने मरे हुए पति कि साथ उसके चिता में जिंदा जल जाए। जो महिलाएं यह स्वेच्छा से नहीं करती थी उन्हें नशा पिला कर ऐसा करवाया जाता था।


9 Slot Vertical Credit Debit Card Holder Money Wallet Zipper Coin Purse for Men Women

(6). जिस समाज में इस प्रथा का प्रचलन कम था वहां पर भी जब स्त्री का पति मर जाता था तो विधवा स्त्री का समाज पूरी तरह बहिष्कार कर देता था|

विधवा स्त्री ना तो किसी सामाजिक कार्य पूजा त्यौहार आदि में शामिल हो सकती थी और ना ही रंगीन कपड़े और अच्छा भोजन कर सकती थी। उसे अपने हर सुख का त्याग करना होता था।

वो केवल अपने पति या भाई के परिवार में रहकर जीवन भर परिवार वालों की सेवा करती थी।

(7). ज्यादातर महिलाओं को घर से बाहर निकलने तक की छूट नहीं थी पर कुछ श्रमिको के घर की महिलाएं खेतों में जाकर काम करती थी।

(8). 18वीं सदी में महिला को पुरुषों से कभी मिलने नहीं दिया जाता था विवाह मुखिया तय करते थे और महिलाएं बिना कुछ बोले उसे मान लेती थी।

(9). छोटी-छोटी बच्चियों की शादी बड़े लोगों से कर दी जाती थी जिससे वह मर जाता था और स्त्रियों को कम उम्र में ही विधवा होकर समाज का बहिष्कार सहना पड़ता था।

(10). पर्दा प्रथा का भी प्रचलन कहीं कहीं पर था।

अब आप स्वयं सोच सकते हैं उस वक्त स्त्रियों की स्थिति क्या रही होगी।

 

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

Add a Comment

Your email address will not be published.