Machander Nath Ki Kahani Bhag 18 || मछंदर नाथ की कहानी भाग 18 || Machander Nath Ki Katha Bhag 18 || मछेन्‍द्रनाथ की कथा भाग 18

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

Machander Nath Ki Kahani Bhag 18 || मछंदर नाथ की कहानी भाग 18 || Machander Nath Ki Katha Bhag 18 || मछंदर नाथ की कथा भाग 18

Machander Nath Ki Kahani Bhag 18 || मछंदर नाथ की कहानी भाग 18 || Machander Nath Ki Katha Bhag 18 || मछंदर नाथ की कथा भाग 18

Machander Nath Ki Kahani


समारोह समापन के बाद मौनीनाथ को उपरिक्ष वसू के साथ संगल द्वीप भेज दिया गया। मैनाकिनी ने उसे क्‍यों उसके पिता को समर्पित किया था यह बात भी मौनीनाथ को समझायी। उपरिक्ष वसू मौनीनाथ के नानाश्री थे।

उपरिक्ष वसू ने कहा कि एक बार मछंदर नाथ से भेंट अवश्‍य होगी और यह सुनकर मैनाकिनी मौनीनाथ को प्‍यार कर खुशी-खुशी रहने लगीं।

इधर गहनीनाथ को शिक्षा देने के लिये गोरखनाथ और मछंदर नाथ गर्भादि पर्वत पर ही ठहर गये। शिवजी भी वहीं पर थे। उस सोने के पर्वत को अद्रव्यास्‍त्र की व्‍यवस्‍था कर कुबेर भी अपने स्‍थान को रवाना हुए। शिवजी उसी सोने के पर्वत पर आसन बिछा कर रहने लगे।

उसी पर्वत का नाम अब म्‍हावर देव है। कहते हैं कि महादेव अभी भी वहां विराजमान हैं। इसी के पश्चिम में कणिफानाथ रहा करते थे वह ग्राम अब मण्‍डी के नाम से प्रसिद्ध है। उस पर्वत के दक्षिण दिशा में मछेन्द्रनाथ विराजमान थे और पूर्व में जालन्‍धरनाथ जी।

Baba Machander Nath Ki Katha || Baba Machindra Nath || Machander Nath Ki Kahani || Machindranath Story In Hindi || Machander Nath Ki Kahani Bhag 18


Dr Vaidya’s New Age Ayurveda | Herbobuild | Ayurvedic Capsules for Muscle Gain

इसी पर्वत के दायीं ओर वडवानल ग्राम में नागनाथ का आसन है। बिटे ग्राम में सिद्ध रेवणनाथ का आसन है।

गर्भादि पर्वत के बायीं ओर गोरखनाथ ने महिनीनाथ को विधावान बनाया। उस बालक को एक वर्ष में निपुण करके मधुनामा पण्डित के पास भेज दिया। उसने काफी समय तक अपने माता और पिता की सेवा की और फिर बाद में तपस्‍या कर समाधि ले ली।

उधर कवरी घाट समाधि का उद्देश्‍य भी यही था कि कोई राजा यहां उपद्रव न करे। एक बार की बात है, महाराजा अकबर ने पूछा कि ये मठ कैसे हैं? तो उन्‍हें लोगों ने बताया कि ये आपके पूर्वजों के हैं। तब बादशाह ने पूछा कि इनके नाम क्‍या हैं?

तो बादशाह को बताया कि कन्‍होवा की जगह पर्वती (जानपरि), जालन्‍धर की जगह गोरिपरि, महिनीनाथ की जगह माया बावलेन। इस प्रकार के नाम रखे। मुसलमान मुल्‍ला को नौकर रखा। कल्‍याण कलयुगी बाबा की समाधि को रखवागसर रखा। और गोरखनाथ अपनी समाधि भूतों के सुपुर्द कर तीर्थ यात्रा पर निकल गये।

Guru Machander Nath Ki Katha || गुरू मछंदर नाथ की कथा || Baba Machander Nath Ki Kahani || Machander Nath Ki Kahani Bhag 18

Also Read –


Tags:

Machander Nath Ki Kahani Bhag 18

Baba Machander Nath Ki Katha

Baba Machindra Nath

Machander Nath Ki Kahani

Machindranath Story In Hindi


आपको यह कहानी कैैैैसी लगी यह बात कृपया कर कॉमेण्‍ट सेक्‍शन में अवश्‍य बतायें। बाबा मछेेेेेेेेन्‍द्रनाथ ( Machander Nath) आप सभी की मनोकामना पूर्ण करेंं।

इस कहानी को ज्‍यादा से ज्‍यादा शेयर करें बाबा के सभी भक्‍तों के साथ।

कॉमेण्‍ट सेक्‍शन में लिखें जय बाबा मछेन्द्रनाथ जी की।

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

Add a Comment

Your email address will not be published.