दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books


दोस्तों, वैसे तो किताबें इंसान की वो मित्र होती हैं जो उसका मार्गदर्शन करती रहती हैं। इन पुस्तकों को हम वेद, पुराण, शास्त्र और अन्य् पवित्र ग्रन्थों के नाम से जानते हैं। ये किताबें अलग-अलग धर्म और जाति के लोगों के जीने का आधार होती हैं।

ये किताबें आम तौर पर हमें जीवन के उद्देश्य और ज्ञान के बारे में बताती हैं। परंतु इन पवित्र किताबों के अतिरिक्त इस संसार में कई किताबें ऐसी भी मौजूद हैं जिन्हें इस संसार के लिये काफी खतरनाक माना जाता है।

ऐसा माना जाता है कि इन किताबों में कई सारी ऐसी बातें लिखी हुई हैं जिन्हें इंसान न ही जाने तो ही बेहतर है। तो चलिये दोस्तों आज की इस ब्लॉग पोस्ट को शुरू करते हैं और जानते हैं इन्हीं रहस्यमयी किताबों के बारे में। दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books


(1). Codex Gigas

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

Also Read – पढ़ें और भी रोच‍क कहानियां

कोडेक्स गीगास को लोग डेविल बाइबिल Devil Bible के नाम से भी जानते हैं। माना जाता है कि इस पुस्तक को एक मॉन्क द्वारा तेरहवीं सदी के अंत में लिखा गया था। इस मॉन्कं ने अपने पंथ के कुछ महत्व‍पूर्ण नियमों का उल्लंघन किया था।

इसी कारण बोहेमिया जो कि आजकल चेक गणराज्यम का भाग है, के राजा ने इसे दीवारों में चिनवाने का आदेश दे दिया था। परंतु दीवार में चिनवाए जाने के दौरान उस मॉन्क ने राजा के सामने एक अनूठा प्रस्ताव रखा।

वह बोला कि अगर राजा उसकी जान बख्शा दे तो बदले में वह उस राजा के लिये एक ऐसी पुस्तरक लिखेगा जिसमें दुनिया का सारा ज्ञान मौजूद होगा। राजा ने यह बात स्वीकार कर ली और उस मॉन्क को उस पुस्ताक को लिखने के लिये जरूरी सभी चीजें मुहैय्या करवा दीं।

लेकिन एक रात में ऐसी पुस्तक को लिखना जिसमें जीवन का सारा ज्ञान भरा हो, को लिखना एक असंभव कार्य था। तब उस मॉन्क ने शैतानी मंत्रों द्वारा लूसीफर का आह्वान किया। लूसीफर से अपनी आत्माख का सौदा करने के पश्चानत उसकी मदद से वह पुस्तक पूरी की।

यह किताब 36 इंच लंबी, 20 इंच चौड़ी और लगभग 8.5 इंच मोटी है। इस किताब में शुरूआत में 320 पेज हुआ करते थे। इस किताब के पृष्ठों को बनाने मे गधों और घोड़ों की चमड़ी का इस्तेमाल किया गया था। इसका वजन लगभग 34 किलोग्राम के आसपास है और इसमें अनेकों प्रकार की शिल्पकारी की गयी है।

यह किताब मध्यककालीन युग की सबसे बड़ी हस्तमलिपियों में से एक है। इस किताब में बाइबिल के अनेकों उपदेशों और अंशों को लिखा गया है। किताब के कुछ पन्ने पलटने के बाद डेविल की 19 इंच लम्बीे एक तस्वीिर बनायी गयी है।

इसमें शैतान को उसके असली रूप मे दर्शाया गया है। इस तस्वी र के बाद के पृष्ठों पर विचित्र प्रकार के कर्मकाण्डों और क्रियाकलापों का वर्णन किया गया है। ये ऐसी तांत्रिक क्रियाएं हैं जिनके द्वारा डेविल से सीधा संपर्क किया जा सकता है।

ऐसा माना जाता है कि इस किताब में शैतान और शैतानी शक्तियों को पाने की ऐसी विधियों का उल्लेपख किया गया है जो अगर इंसानों से दूर ही रहें तो ही बेहतर है। पहले इसमें 320 पेज हुआ करते थे परंतु बाद में इसमें से किसी ने 10 पेज निकाल लिये।

इन पन्नों को किसने निकाला और क्यों निकाला यह तो आज भी बस एक राज ही है। और सबसे बड़ी बात तो यह है कि आखिर उन दस पन्नों में ऐसी कौन सी रहस्यमयी जानकारी मौजूद थी जिसे दुनिया के सामने लाने से रोका गया है।

वैसे तो इस किताब की प्रतिलिपियां ढूँढ़ना काफी मुश्किल है परंतु डार्कवेब पर इस किताब की खरीद फरोक्त अभी भी जारी है। हालांकि इस किताब की ऑरिजिनल कॉपी को तो अभी भी चेक रिपब्लिक की लाइब्रेरी में रखा गया है।

इस पर आज भी कई रिसर्च चल रही हैं। इस किताब पर तो नेशनल जियोग्राफिक चैनल ने भी एक डाक्यूरमेण्ट्री बनायी है। इस बारे में उन्होंने और भी विस्तार से बताया है।

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books


(2). Book of Soyga

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

बुक ऑफ सोयगा या इसे बुक ऑफ डेथ के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि यह एक रहस्यमयी पुस्तक है जिसके इतिहास की जानकारी आज तक सही से नहीं मिल पायी है।

लेकिन ऐसा कहते हैं कि इस पुस्त्क में अनेक जादुई क्रियाओं और आत्मा से जुड़े अनेक अनसुलझे रहस्यों के बारे में बताया गया है। इस किताब को एक सीक्रेट कोड की भाषा में लिखा गया है। इसमें हर एक शब्द को एक ग्रिड के अलग-अलग सेक्श्न में रखा गया है।

इन ग्रिड्स में लिखे गये शब्दों का सही सही मतलब आजतक कोई नहीं लगा पाया है। लेकिन माना जाता है कि 15वी सदी के मशहूर विद्वान जॉन डी के पास यह पुस्तक मौजूद थी। जॉन डी ने इस पुस्त क को डीकोड करने की पुरजोर कोशिश की थी।

इस बुक में लगभग 40000 शब्दों को बड़े ही अजीब तरीकों से लिखा गया है। जैसे-जैसे जॉन डी ने इस किताब के कुछ पेजों को डिकोड करना शुरू किया, तो उन्हें यह समझते देर न लगी कि यह किताब जादुई मंत्रों से भरी पड़ी है। लेकिन महज कुछ ही भाग डीकोड करने में जॉन डी की सारी उम्र चली गयी।

लकिन जॉन डी की मृत्युि के बाद इस पुस्तक का क्या हुआ यह कोई नहीं जानता। और फिर इस किताब को एक विलुप्त किताब मान लिया गया। लेकिन 19वीं सदी के अंत में इस किताब को ब्रिटिश लाइब्रेरी के एक कोने में पाया गया।

ठीक इसी प्रकार की एक और प्रतिलिपि ऑक्सोफोर्ड की लाइब्रेरी में बरामद हुई और वो भी जादुई तरीके से। दोनों ही जगह के लाइब्रेरियन ने यही कहा कि इससे पहले यह किताब कभी भी लाइब्रेरी में नहीं थी।

आज भी यह किताब इन दोनों लाइब्रेरी में पड़ी हुई हैं। आज तक इस किताब को कोई भी डीकोड नहीं कर सका है।


(3). The Grand Grimoire

दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books

इस किताब को एक ऐसे शख्स ने लिखा था जिसके बारे में यह माना जाता था कि वह किसी बुरी आत्मा के वश में है। इस किताब को पंद्रहवीं शताब्दी के शुरूआती वर्षों में लिखा गया था। इस किताब मे काले जादू और शैतानी आत्माओं को बुलाने का विस्तृत वर्णन किया गया है।

साथ ही साथ इस किताब में तांत्रिक क्रियाओं और इंसानों की बलि देने की शैतानी क्रियाओं का विस्तार से वर्णन किया गया है। ऐसा माना जाता है कि यह किताब पढ़ने वाले के दिमाग पर ऐसा बुरा असर डालती है कि जो भी इस पुस्तक को पूरा पढ़ लेता है वह बुरी आत्माओं के काबू मे आ जाता है।

आसान शब्दों में कहें तो किताब पढ़ने वाले व्यक्ति का ब्रेनवॉश कर दिया जाता है। इस किताब से हो सकने वाले दुष्परिणामों को देखते हुए यह फैसला किया गया कि इस किताब को लोगों की पहुँच से दूर कर दिया जायेगा।

इसी कारण से इस किताब पर अनेकों तंत्र मंत्र करने के बाद वेटिकन सिटी में एक गोपनीय स्थान पर रख दिया गया। अब यह किसी भी इंसानी पहुँच से बाहर ही है। दुनिया की सबसे रहस्यमयी किताबें | World Most Mysterious Books


(4). The Book of Abramelin

top book

इस किताब को 15वीं सदी में अब्रामेलिन नामक व्यभक्ति ने लिखा था। कहा जाता है कि अब्राहम एक बार मिस्र गया था जहां उसकी मुलाकात एक काला जादू करने वाले से हुई थी। और वह चाहता था कि इस जानकारी को अपने पुत्र से शेयर कर सके तो इसीलिये उसने यह पुस्तक लिख डाली।

अब्राहम का मानना था कि प्रत्ये क व्यकक्ति के भीतर उसका डीमन मौजूद रहता है और इस किताब को पढ़ने से उसका डीमन अनलीश हो जायेगा। इस किताब के अंदर ऐसे कई काले जादू के मंत्र हैं जिनसे मुर्दों को भी जीवित किया जा सकता है।

जमीन में छुपे हुए खजाने को खोजा जा सकता है और डेविल से कॉण्टेक्ट भी किया जा सकता है। सन्1900 के दौरान इसे अंग्रेजी भाषा मे रूपांतरित किया गया था। इसके बाद इस किताब को कई लोगों ने लिया और सभी ने यही माना कि यह किताब वास्तव में शापित है।

जिस भी व्यिक्ति के पास इस किताब की प्रति होती थी उसके साथ कुछ ना कुछ बुरा अवश्यव होता था। ऐसा माना जाता है कि इस किताब को रखने वाले व्य क्ति को दूसरे संसार के आत्मा डराने लगती थीं। दुर्भाग्य का आगमन और कई लोगों की तो मृत्यु तक हो गयी थी।


यूँ तो किताबें हमारे मानसिक विकास के लिये एक अत्यंत ही जरूरी साधन हैं, परंतु जो पुस्तकें हमने आपको बतायी हैं वो सिर्फ कुछ विशेष तबके के लोगों को ही शक्ति प्रदान करने के लिये रची गयी थीं। इसीलिये बेहतर तो यही है कि इनसे दूर रहा जाये।

तो अब आप कमेण्टे सेक्शैन में बताईये कि अगर कभी आपको यह पुस्तकें या कोई अन्य रहस्यमयी पुस्तक पढ़ने का मौका मिले तो क्या आप उसे पढ़ना चाहेंगे? यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें। धन्यवाद!

Please follow and like us:
0
20
Pin Share20

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *